aṣṭottara śataṃ

श्रीराम अष्टोत्तरशत

  1. ॐ श्रीरामाय नमः
  2. ॐ रावण-संहार-कृत-मानुष-विग्रहाय नमः
  3. ॐ कौसल्या-सुकृत-व्रत-फलाय नमः
  4. ॐ दशरथात्मजाय नमः
  5. ॐ लक्ष्मणार्चित-पादाब्जाय नमः
  6. ॐ सर्वलोक-प्रियङ्कराय नमः
  7. ॐ साकेतवासि-नेत्राब्ज-संप्रीणन-दिवाकराय नमः
  8. ॐ विश्वामित्र-प्रियाय नमः
  9. ॐ शान्ताय नमः
  10. ॐ ताटका-ध्वान्त-भास्कराय नमः
  11. ॐ सुबाहु-राक्षस-रिपवे नमः
  12. ॐ कौशिकाध्वर-पालकाय नमः
  13. ॐ अहल्या-पाप-संहर्त्रे नमः
  14. ॐ जनकेन्द्र-प्रियातिथये नमः
  15. ॐ पुरारि-चाप-दळनाय नमः
  16. ॐ वीरलक्ष्मी-समाश्रयाय नमः
  17. ॐ सीता-वरण-माल्याढ्याय नमः
  18. ॐ जामदग्न्य-मदापहाय नमः
  19. ॐ वैदेही-कृत-शृङ्गाराय नमः
  20. ॐ पितृ-प्रीति-विवर्धनाय नमः
  21. ॐ ताताज्ञोत्सृष्ट-हस्तस्थ-राज्याय नमः
  22. ॐ सत्य-प्रतिश्रवाय नमः
  23. ॐ तमसा-तीर-संवासिने नमः
  24. ॐ गुहानुग्रह-तत्पराय नमः
  25. ॐ सुमन्त्र-सेवित-पादाय नमः
  26. ॐ भरद्वाज-प्रियातिथये नमः
  27. ॐ चित्रकूट-प्रिय-स्थानाय नमः
  28. ॐ पादुका-न्यस्त-भूभराय नमः
  29. ॐ अनुसूयाङ्ग-रागाङ्क-सीतासाहित्य-शोभिताय नमः
  30. ॐ दण्डकारण्य-सञ्चारिणे नमः
  31. ॐ विराध-स्वर्ग-दायकाय नमः
  32. ॐ रक्षःकुलान्तकाय नमः
  33. ॐ सर्वमुनि-सङ्घ-मुदावहाय नमः
  34. ॐ प्रतिज्ञाताशर-वधाय नमः
  35. ॐ शरभङ्ग-गति-प्रदाय नमः
  36. ॐ अगस्त्यार्पित-बाणासि-खड्ग-तूणीर-मण्डिताय नमः
  37. ॐ प्राप्त-पञ्चवटी-वासाय नमः
  38. ॐ गृध्रराज-सहायवते नमः
  39. ॐ कामि-शूर्पणखा-कर्ण-नासच्छेद-नियामकाय नमः
  40. ॐ खरादि-राक्षस-व्रात-खण्डनावित-सज्जनाय नमः 40
  41. ॐ सीता-संश्लिष्ट-कायाभाजित-विद्युत्-द्युताम्बुदाय नमः
  42. ॐ मारीच-हन्त्रे नमः
  43. ॐ मायाढ्याय नमः
  44. ॐ जटायुः-मोक्षदायकाय नमः
  45. ॐ कबन्ध-बाहुलवनाय नमः
  46. ॐ शबरी-प्रार्थिताथये नमः
  47. ॐ हनुमद्वन्दित-पादाय नमः
  48. ॐ सुग्रीव-सुहृदेऽव्ययाय नमः
  49. ॐ दैत्य-कङ्काळ-विक्षेपिणे नमः
  50. ॐ सप्तसाल-प्रभेदकाय नमः
  51. ॐ एकेषु-हत-वालिने नमः
  52. ॐ तारा-संस्तुत-सद्गुणाय नमः
  53. ॐ कपीन्द्र-कृत-सुग्रीवाय नमः
  54. ॐ सर्ववानर-पूजिताय नमः
  55. ॐ वायुसून-समासीन-सीतासन्देश-नन्दिताय नमः
  56. ॐ जैत्र-यात्रोद्यताय नमः
  57. ॐ जिष्णवे नमः
  58. ॐ विष्णु-रूपाय नमः
  59. ॐ निताकृतये नमः
  60. ॐ कम्पिताम्भोनिधये नमः
  61. ॐ सम्पत्प्रदाय नमः
  62. ॐ सेतु-निबन्धनाय नमः
  63. ॐ लङ्का-विभेदन-पटवे नमः
  64. ॐ निशाचर-विनाशकाय नमः
  65. ॐ कुम्भकर्णाख्य-कुम्भीन्द्र-मृगराज-पराक्रमाय नमः
  66. ॐ मेघनाद-वधोत्युक्त-लक्ष्मणास्त्र-बलप्रदाय नमः
  67. ॐ दशग्रीवान्धतामिश्र-प्रमापण-प्रभाकराय नमः
  68. ॐ इन्द्रादि देवता-स्तुत्याय नमः
  69. ॐ चन्द्राभ-मुख-मण्डलाय नमः
  70. ॐ विभीषणार्पित-निशाचर-राज्याय नमः
  71. ॐ वृष-प्रियाय नमः
  72. ॐ वैश्वानर-स्तुत-गुणावनी-पुत्री समागताय नमः
  73. ॐ पुष्पक-स्थान-सुभगाय नमः
  74. ॐ पुण्यवत्प्राप्य-दर्शनाय नमः
  75. ॐ राज्याभिषिक्ताय नमः
  76. ॐ राजेन्द्राय नमः
  77. ॐ राजीव-सदृशेक्षणाय नमः
  78. ॐ लोक-तापापहर्त्रे नमः
  79. ॐ धर्म-संस्थापनोद्यताय नमः
  80. ॐ शरण्याय नमः80
  81. ॐ कीर्तिमते नमः
  82. ॐ नित्य-वन्दनाय नमः
  83. ॐ करुणार्णवाय नमः
  84. ॐ संसार-सिन्धु-सम्मग्न-तारकाख्य-मनोहराय नमः
  85. ॐ मधुराय नमः
  86. ॐ मधुरोक्तये नमः
  87. ॐ मधुरा-नायकाग्रजाय नमः
  88. ॐ शम्बूक-दत्त-स्वर्लोकाय नमः
  89. ॐ शम्बराराति-सुन्दराय नमः
  90. ॐ अश्वमेध-महायाजिने नमः
  91. ॐ वाल्मीकि-प्रीतिमते नमः
  92. ॐ वशिने नमः92
  93. ॐ स्वयं-रामायण-श्रोत्रे नमः
  94. ॐ पुत्र-प्राप्ति-प्रमोदिताय नमः
  95. ॐ ब्रह्मादि-स्तुत-माहात्म्याय नमः
  96. ॐ ब्रह्मर्षि-गणपूजिताय नमः
  97. ॐ वर्णाश्रम-रताय नमः
  98. ॐ वर्णाश्रम-धर्म-नियामकाय नमः
  99. ॐ रक्षापराय नमः
  100. ॐ राजवंश-प्रतिष्ठापन-तत्पराय नमः
  101. ॐ गन्धर्व-हिंसा-संहारिणे नमः
  102. ॐ धृति-मते नमः102
  103. ॐ दीन-वत्सलाय नमः
  104. ॐ ज्ञानोपदेष्ट्रे नमः
  105. ॐ वेदान्त-वेद्याय नमः
  106. ॐ भक्त-प्रियङ्कराय नमः
  107. ॐ वैकुण्ठ-वासिने नमः
  108. ॐ चराचर-विमुक्तिदाय नमः108

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *